WhatsApp Group 

Join करें 




Telegram Group में जुड़े

Join करें


Facebook  पर जुड़े

Join करें

 

Mustard price: सरसों का भाव में आया हल्का सुधार, दैनिक आवक स्थिर, देखें तेजी मंदी रिपोर्ट

Mustard price: सरसों का भाव में आया हल्का सुधार, दैनिक आवक स्थिर, देखें तेजी मंदी रिपोर्टतेल मीलों की सिमित मांग और विदेशी बाजार की कमजोरी के बीच सरसों का भाव स्थिर हो गया है। जयपुर मंडी में सरसों की कीमत स्थिर रही वहीं भरतपुर मंडी में सरसों की कीमत में हल्का सुधार हुआ।

Table of Contents

सरसों का भाव (Mustard price)

सरसों में सप्ताह के दूसरे दिन भी सरसो की दैनिक आवक 9.50 बोरी दर्ज की गयी। जयपुर तेल एक्सपेलर व कच्ची घानी की कीमत क्रमश 971 व 981 रुपये प्रति 10 किलो 3 रुपए की तेजी और सरसों खल की कीमत 2500/ 2505 रुपए 5 रूपये की तेजी के साथ कारोबार किया।

सरसों तेल और खल में सुधार 

पूछ परख निकलने से सरसो तेल और खल में थोड़ा सुधार हुआ। विदेशी तेलों के सस्ते होने की वजह से सरसो तेल की डिमांड सामान्य से कमजोर बनी हुई है। वहीं डिस्पैरिटी के चलते मीलों की मांग सरसों जरूरत अनुसार करोबार कर रही हैं।

देशभर की मंडियों में सरसों की दैनिक आवक मंगलवार को 9.50 लाख बोरियों की हुई, जबकि इसके पिछले कारोबारी दिवस में आवक 9.50 लाख बोरियों की ही हुई थी । कुल आवकों में से प्रमुख उत्पादक राज्य राजस्थान की मंडियों में 5 लाख बोरी, मध्य प्रदेश 1.15 लाख बोरी, उत्तर प्रदेश 85 हजार बोरी, पंजाब एवं हरियाणा 75 हजार बोरी तथा गुजरात 50 हजार बोरी, तथा अन्य राज्यों की मंडियों में 1.25 लाख बोरियों की आवक हुई।

मीलों की सिमित मांग और विदेशी तेलों में दबाव के चलते सरसो के भाव सिमित दायरे में रहेंगे और व्यापर सुस्त रहेगा।

Whatsapp ग्रुप में जुड़ना चाहते हैं तो 👉 यहां पर दबाएं

इसे भी पढ़ें 👉 सभी फसल का ताजा भाव देखें

इसे भी पढ़ें👉 गेहूं का भाव

इसे भी पढ़ें👉 सोयाबीन का भाव

इसे भी पढ़ें 👉 सरसों एमएसपी खरीद: सरसों किसानों के लिए खुशखबरी, कल सरसों की सरकारी खरीद होगी

नोट 👉 आज इस रिपोर्ट में अपने जाना सरसों का भाव भविष्य तेजी मंदी रिपोर्ट । आप ऐसे ही हर रोज हमारी वेबसाइट से सभी मंडियों के ताजा भाव तेजी मंदी रिपोर्ट और वायदा बाजार भाव देखें। हमारी कोशिश रहती है कि किसानों और व्यापारी भाइयों को सही और सटीक जानकारी दी जाए लेकिन फिर भी व्यापार अपने विवेक से करें। किसी भी फसल में तेजी या मंदी आने वाली परिस्थितियों पर निर्भर करती है। व्यापर में हानि होने पर सुपर मंडी भाव जिम्मेवार नहीं है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: